Sukha Kahlon Real Story | सुक्खा काहलवां की असली कहानी

Sukha Kahlon Real Story in Hindi

Sikha- Kahlon-Real-Story
Sukha Kahlon का पूरा नाम सुखबीर सिंह काहलवां है। उसने अपना नाम अपने गांव के नाम पर रखा था। यह करतारपुर के काहलवां गांव में रहता था और इसका पूरा बचपन इसी गांव में बीता था।  इसके पिता का नाम सुदर्शन सिंह और माता का नाम हरजिंदर कौर था। ये दोनों NRI थे। इस पर 45 से ज्यादा मामले दर्ज हैं। 2 हत्या 8 हत्या करने का प्रयास और 7 लूट के मामले दर्ज हैं। 21 जनवरी 2015 की शाम को 27 साल के कुख्यात बदमाश सुक्खा काहलवां का खून हो जाता है।

इस खून से पुलिस के सामने बहुत सारे सवाल उठते कि कैसे एक गांव का सीधा साधा लड़का जो अपने मां बाप के साथ विदेश में सैटल होना चाहता था वह कैसे एक गैंगस्टर बन जाता है ‌। वह मासूम लड़का कैसे रास्ता भटक जाता है और आगे चल कर वह इतना बड़ा गैंगस्टर कैसे बन जाता है। 

सुक्खा का अपने मां बाप के साथ अमेरिका ना जा पाना।

Sukha-Kahlon-Biograpy
गांव में Sukha Kahlon के लड़ाई झगडे की वजह से उसका पासपोर्ट नहीं बन पाता है और वह अपने मां बाप के साथ  विदेश नहीं जा पाता है। सुक्खा के मां बाप अमेरिका में जाना चाहते थे। उनके सपने बड़े थे वो पैसा कमाना चाहते थे। सुक्खा के मां बाप बताते हैं कि बड़ी मुश्किल से उन्हें अमेरिका जाने का मौका मिला था। इसलिए वह खुद को रोक नहीं पाए अमेरिका जाने से। इसलिए वो सुक्खा को उसकी मौसी के पास छोड़ कर अमेरिका चले जाते हैं। 

Sukha Kahlon की गर्लफ्रेंड और लव मैरिज

21 साल की उम्र Sukha Kahlon ने जिस लड़की से सच्चा प्यार किया था। उससे शादी कर लेता। लड़की का बाप रिसोर्ट का मालिक था। लड़की अमीर घर से थी। बाद में किसी तरह सुक्खा का पासपोर्ट बन जाता है। शादी करके सुक्खा Australia चला जाता है। सुक्खा की पत्नी काम करती थी। सुक्खा घर में रहता था। घर के काम उन दोनों की लड़ाई की वजह बने थे। सुक्खा को उसकी पत्नी घर का काम करने को कहती थी। शादी के कुछ दिन बाद  ही सुक्खा उसे छोड़ कर वापस आ जाता है।
Sukha-Kahlon-Marriage
इसके बाद सुक्खा के जीवन में अंधेरा सा छा जाता है। सुक्खा के लड़ाई झगडे की खबरें अक्सर आने लगी थी। अब Sukha Kahlon एक गैंगस्टर बन चुका था। सुक्खा जिन्हें अपना दोस्त समझ कर पाल रहा था दरअसल वहीं उसके दुश्मन बनने वाले थे। सुक्खा की पत्नी सुक्खा से तलाक लेने के लिए कोर्ट में केस करती है बाद में दोनों के राजीनामा से उनका तलाक हो जाता है। 

Sukha Kahlon का गैंगस्टर बनना

सुखा अब जालंधर शहर में रहने लगा था। यहीं से सुक्खा गैंगस्टर का जन्म हुआ‌। वह पूरी तरह से बुरी संगत में फंस चुका था सुक्खा की मौत से 6 महीने पहले उसके भाई की कपूरथला जेल में रहस्यमय तरीके से मौत हो गई थी।

Sukha Kahlon की मौत से एक साल पहले उसे प्रधान सुदर्शन सिंह ढिल्लो के खून में गिरफ्तार किया गया था। सुक्खा की किस्मत ने कई बार उसका साथ दिया। जालंधर पुलिस से चार बार सुक्खा सिंह का सामना हुआ था। वह चारों बार बच कर निकलने में सफल हुआ था।

Sukha Kahlon का जालंधर पुलिस की हिरासत से भागना

अक्टूबर 2010 में  में Sukha Kahlon जालंधर पुलिस की हिरासत से भाग निकला था। राजस्थान पुलिस से उसकी मुठभेड़ हुई तो सुक्खा का साथी मारा गया सुक्खा वहां से भी भाग निकलने में सफल रहा था। बाद वह यूपी के नामी बदमाश यामीन के सम्पर्क में आया। सुक्खा और यामीन ने मिलकर एक व्यापारी से लाखों का सोना लूट लिया था। सोने के बंटवारे में सुक्खा और यामीन का झगड़ा ‌हो गया था। यामीन ने सुक्खा का गला रेत कर उसे यमुना में फेंक दिया था। मगर इस बार भी सुक्खा बच निकला था। 

सुक्खा कांहलवा का सोशल मीडिया प्रेम

सुक्खा को सोशल मीडिया का बहुत शौक था। वह सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा एक्टिव रहता था। उसके तीन फेसबुक फैन पेज थे। जिसपर फाॅलोवर की संख्या लाखों में थी। सुक्खा जेल में रहने के दौरान भी इन‌ पेजों को अपडेट किया करता था। सुक्खा जब बंदूक के साथ फोटो इन‌ पेजों पर शेयर करता था। उसे बहुत लाईक और शेयर मिलते थे। सुक्खा हमेशा इन पेजों को अपडेट किया करता था।

Sukha Kahlon की हत्या की सुपारी

Sukha-Kahlon-Arrested
Sukha Kahlon की हत्या उस समय हुई जब उसे नाभा जेल से निकालकर  डिस्ट्रिक्ट जज के सामने पेश करने के लिए ले जाया जा रहा था। सुक्खा  की हत्या सुपारी देकर कराई गई थी। सुपारी देने वाला सोनू बाबा था। सोनू बाबा सुक्खा गैंग की तरफ से कत्ल किए गए लवली‌ बाबा का जिगरी दोस्त था। हिरासत में लिए गए सोनू बाबा ने माना है कि सुक्खा के हत्या की साज़िश उसी ने रची थी। इसमें सुक्खा के जानी दुश्मन प्रेमा लौहरिया उर्फ प्रेम सिंह  और हरजिंदर सिंह उर्फ विक्की कौंडल भी शामिल थे। 

Sukha Kahlon की हत्या का कारण

गुप्त सूत्र बताते हैं कि सोनू बाबा ने माना है कि 2 फरवरी 2010 को सुक्खा ने उसके जिगर यार लवली की हत्या की थी। सुक्खा चाहता था कि सोनू बाबा इस केस में गवाही ना दे पर सोनू बाबा लवली को अपना भाई मानता था। कोर्ट में सोनू बाबा ने सूक्खा के खिलाफ गवाही दी। इस बात को लेकर कोर्ट में ही सोनू और सूक्खा के बीच कहासुनी हो गई थी। पुलिस कस्टडी में सोनू ने सूक्खा को थप्पड़ मार दिया था।

इस पर सुक्खा ने कहा था कि जैसे ही वह जेल से बाहर आएगा वह उसे छोड़ेगा नहीं। सोनू बाबा इससे बहुत डर गया था उसे ऐसा लग रहा था कि सुक्खा जेल से बाहर आकर उसका खून कर देगा। इस विवाद की वजह से सोनू बाबा ने विक्की कौंडल को सुक्खा को मारने की सुपारी दे दी। इस तरह कुख्यात गैंगस्टर Sukha Kahlon का Murder हुआ था। तो दोस्तों कुछ इस तरह से जी गैंगस्टर सुखा काहंलवा की कहानी।

यह भी पढ़ें :- 

Post a Comment

1. कमेंट बॉक्स में किसी भी प्रकार की लिंक ना पेस्ट करें।
2. कमेंट में गलत शब्दों का प्रयोग ना करें।

Previous Post Next Post