Six Sigma कब और कैसे शुरू हुआ।

Six Sigma नाम का जो Concept इसे Motorola  नाम की कंपनी ने 1986 लांच किया था। 1980 में जब कंपनी करोबारी घाटे से गुजर रही थी। तब कंपनी ने सोचा। कारोबार में बने रहने के कंपनी को कुछ नया करना होगा। फिर कंपनी Six Sigma का Concept लेकर बाजार में आईं। इस तरह से कंपनी अपने अस्तित्व को बचाने में सफल हुई। इसके साथ ही कंपनी अच्छा Profit भी कमाना शुरू कर दिया।


Six Sigma क्या है , Six Sigma Definition

Six Sigma is a" Process Improvement Methodology " अगर हम आसान भाषा में कहें तो सिक्स सिग्मा का मतलब काम करने के तरीके में लगातार सुधार करना है। कोई भी कम्पनी जो सिक्स सिग्मा के मानकों पर खरा उतरना चाहती है। उनके पास 3 Defect Per Million Defect Opportunities की गुंजाइश रह सकतीं हैं। यानी कि अगर कोई कम्पनी 10 लाख Product बनाती है तो उस 10 लाख Product में से सिर्फ 3 Product में ही किसी प्रकार की गलती की गुंजाइश हों सकतीं हैं।

यह भी पढ़ें :- 
Poka Yoke क्या है और यह इसका implementation कैसे करते हैं

Quality Assurance और Quality Control में क्या अन्तर है।

5 S क्या है , यह कैसे काम करता है पूरी जानकारी।

सुनने में तो ये काम बहुत मुश्किल सा लगता है। सच कहें तो यह मुश्किल है भी कभी भी Quality आसान नहीं होती है। 3 Defect Per Million Defect Opportunities को हासिल करने के जरूरी है कि यह भी समझा जाएं की वो कौन से कारण हैं जिनकी वजह से consecutive Quality नहीं आ रही है। यानि एक तरह के Product एक जैसी Quality के नहीं बन पा रहें हैं। इन कारणों का पता लगा कर उन खामियों को दूर कर सकते हैं। जिससे की हम Six Sigma के मानकों पर खरे उतर सकते हैं। पर इन खामियों को दूर करने के लिए बहुत जरूरी है कि हमारे पास इसका डेटा उपलब्ध हों। इन डाटा की छानबीन कर के हम इस बात का पता लगा सकते हैं कि वो कौन से कारण जिनकी वजह से consecutive Quality नहीं आ रही है। एक बार हमने इन कारणों को पहचान कर दूर कर लिया तो हमारी कम्पनी भी सिक्स सिग्मा कम्पनी बन सकतीं हैं। सिक्स सिग्मा कोई एक साल एक महीने का Process नहीं है। बल्कि यह लगातार होने वाला एक Process है। सिक्स सिग्मा एक Process यह भी है कि ऐसे कंट्रोल और ऐसे चैक सिस्टम बनाएं जाएं जिससे एक यह प्रक्रिया लगातार चल सके।


Six Sigma मानकों को लागू कैसे करें।

Six Sigma एक ऐसी विधि है। जो कंपनियों और फैक्ट्रियों में उनकी व्यावसायिक प्रकिया की क्षमता में सुधार के लिए उपकरण प्रदान करतीं हैं। जिससे Production क्षमता मे बढ़ोत्तरी होती है। कम्पनी का प्रदर्शन भी अच्छा होता है। Six Sigma का मुख्य उद्देश्य कम्पनी के मुनाफे को बढ़ाना और तैयार होने वाले पदार्थ की गुणवत्ता को बढ़ाना होता है। इससे किसी भी कम्पनी को बहुत फायदा होता है। काम करने वाले कर्मचारियों का मनोबल भी बढ़ता है। जो कि किसी भी कम्पनी को तरक्की करने के लिए बहुत जरूरी है।

Six Sigma आमतौर पर एक ऐसी प्रक्रिया है जो लगातार चलती रहती है। सिक्स सिग्मा के अंतर्गत एक प्रक्रिया को शुरू किया जाता है। फिर एक टीम बना कर उस प्रक्रिया की देखरेख की जाती है कि six Sigma के अंतर्गत शुरू की गई प्रक्रिया किस प्रकार से काम कर रही है। इस प्रक्रिया से कार्यस्थल किस प्रकार के सुधार देखने को मिल रहा है। क्या यह प्रक्रिया सही रुपरेखा में काम कर रही है कि नहीं। यह प्रक्रिया किसी प्रकार से हानिकारक तो नहीं है। इस बात का भी ध्यान रखा जाता है कि six Sigma के अंतर्गत शुरू किए गए प्रकिया का कम्पनी के Production और Quality पर क्या असर पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें :- 
Micrometre कितने प्रकार के होते हैं पूरी जानकारी।

Varnier Caliper कितने प्रकार के होते हैं।

मशीन पर काम करने का सही तरीका क्या है।

EPF Account को आधार कार्ड से कैसे लिंक करें।

Casting और Forging में क्या अन्तर होता है।

Post a Comment

1. कमेंट बॉक्स में किसी भी प्रकार की लिंक ना पेस्ट करें।
2. कमेंट में गलत शब्दों का प्रयोग ना करें।

Previous Post Next Post