Kaizen Method की शुरुआत कैसे हुई।

Kaizen-in-Hindi
Kaizen एक जापानी शब्द है। Kaizen का उपयोग सबसे पहले जापान में हुआ था। Kaizen दो शब्दों से मिलकर बना है। Kai का मतलब Change और Zen का मतलब Good होता है। किसी भी अच्छे बदलाव को Kaizen कहते हैं। Improvement के लिए किए जाने वाले बदलाव Kaizen कहलाता है। Kaizen के Developer Masaaki Imai थे।  Kaizen का मतलब होता है Kaizen is small incremental changes made for improving productivity and minimising waste.

Kaizen क्या है और यह क्या काम करता है।

Kaizen में हम ऐसे छोटे छोटे बदलाव करते हैं। जिससे Productivity बढ़ती है और Waste में कमी आती है। Kaizen से हम Cost Cutting कर सकते हैं। 
काॅयजेन से हम Productivity Increased कर सकते हैं। Kaizen से हम Quality को Improve कर सकते हैं।
Kaizen से हम Safety Improve कर सकते हैं।
Kaizen कई different तरह के होते हैं। और इन्हें लागू करने का तरीका भी अलग अलग होता है। Kaizen में हम लगातार improvement  करते जाते हैं। लगातार improvement  करने को ही  Kaizen कहते हैं। इस method में हम लगातार Improvement करते हैं फिर हम चैक करते अब हम इससे और आगे कैसे improvement कर सकते हैं।

चाहे वो कोई भी Process हो Quality , Cost Cutting, Safety , Production increase सब में हम पहले कुछ improvement  करते हैं फिर हम चैक करते कि अब और क्या हम improvement कर सकते हैं। यह Process हमेशा  चलने वाला  Process है।

Kaizen हम कहां और किस किस Process में कर सकते हैं।

1. हमारे Process जो Unnecessary Process हो रहा है उस Process को ढूंढ कर खत्म करना है। 

2. किसी एक Process के  होने के बाद दूसरे Process  के लिए  Wait  करना पड़ता है। तो हम kaizen करके इस समय को बर्बाद होने से बचा सकते हैं।

3. मशीनों में बार किसी वजह से  Break down हो रहा है तो हम इसकी खामियों को पता लगा कर इसमें kaizen कर सकते हैं।

4. किसी Process में अगर Waste चीज या प्रोडक्ट्स निकलता है तो यहां हम काॅयजेन कर सकते हैं।

5. Productivity increase करने में कर सकते हैं।

6. Defects Control करने में कर सकते हैं।

7. Safety के लिए कर सकते हैं।

8. Man Power कम करने में कर सकते हैं।

9. Quality Improve करने में।

10. समय की बचत करने में कर सकते हैं।

11. Per Product Cost  कम कर सकते हैं।

12.  Rework को खत्म या कम कर सकते।

13. Rejection को  Control करने में कर सकते हैं।

14. Systems Improvement करने के लिए।

15. Energy Saving के लिए।

16. Paper Work को कम करने के लिए।

17. किसी चीज को ढूंढने में समय बर्बाद होने से बचाने के लिए।

18. Improvement in Material Traceability

19. 5 s को Maintain रखने के लिए।

20. अनचाही गतिविधियों को रोकने के लिए भी हम काॅयेजन का उपयोग कर सकते हैं।

Kaizen को लागू कैसे करते हैं।

1. सबसे पहले यह सलेक्ट करना होता है कि क्या कायजेन करना है। 
2. स्थिति का विश्लेषण करना है।
3. मूल कारण का विश्लेषण करना।
4. काउन्टरमेजर की पहचान करना।
5. काउन्टरमेजर को लागू करना।
6.काउन्टरमेजर के प्रभाव को जांचना
7. प्रभावी काउन्टरमेजर का मानकीकरण करना।

Kaizen के 10 सबसे महत्वपूर्ण नियम।

1. Don't try to Justify the past - Challenge Fixed Ideas.

2. Thik Positive - Think how things Can be Done, not why they  Can't be done.

3. Use data not pet theories.

4. Use wisdom Not Money.

5. Work Smarter Not Harder

6. Set high Standards.

7. Correct Failures immediately - 70% Now is Better than 100% Never.

8. Lead by example

9. A team is better than 1 Expert - involve People

10. Identify the root cause.

यह भी पढ़ें :-
Six Sigma क्या है ? सिक्स सिग्मा की परिभाषा।

5 S क्या है ? इसे कैसे लागू करते हैं।

Casting और Forging में क्या अन्तर होता है।

Quality चैक करने वाले Instruments और Gauges

Post a Comment

1. कमेंट बॉक्स में किसी भी प्रकार की लिंक ना पेस्ट करें।
2. कमेंट में गलत शब्दों का प्रयोग ना करें।

Previous Post Next Post