चक्रवाती तूफान वायु की Live Updates

चक्रवाती-तूफान-वायु

अरब सागर में हवा के कम दबाव की स्थिति गहराने के कारण उत्पन्न चक्रवाती तूफान 'वायु' के 13 जून को गुजरात पहुंचने की आशंका हैं। मौसम विभाग के मुताबिक, अगले 24 घंटे में तूफान गंभीर रूप ले सकता है।
अब तक का अपडेट

गुजरात का चौपाटी समुद्र तट

-पश्चिम रेलवे ने गुजरात के तटीय इलाकों से गुजरने वाली कुछ रेलों को चक्रवात ‘वायु’ से प्रभावित होने की आशंका के मद्देनजर निरस्त करने या फिर उनकी यात्रा बीच में ही समाप्त करने का फैसला किया है। पश्चिम रेलवे ने एक बुलेटिन में कहा कि इस रेलवे की वेरावल, ओखा, पोरबंदर, भावनगर, भुज और गांधीधाम स्टेशन तक जाने वाली सभी पैसेंजर और मेल ट्रेनें बुधवार शाम छह बजे से शुक्रवार सुबह तक या तो रद्द रहेंगी अथवा उन्हें बीच में ही समाप्त कर दिया जाएगा। इसमें कहा गया है कि पश्चिम रेलवे गांधीधाम, भावनगर पारा, पोरबंदर, वेरावल और ओखा से विशेष रेल चलाएगा ताकि इन इलाकों से लोगों को निकाला जा सके। पश्चिम रेलवे ने कहा कि छह से दस डिब्बों वाली ये विशेष ट्रेनें निकटतम सुरक्षित स्टेशनों पर रोकी गई हैं ताकि उन्हें आपात स्थिति में भेजा जा सके।
-गुजरात एसडीएमए ने कहा कि अब तक 10 प्रभावित इलाकों से 1,64,090 लोगों को बाहर निकाला गया।

-एनडीआरएफ ने द्वारका तट से लोगों को बाहर निकाला।

पीएम मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार गुजरात और दूसरे राज्यों में हालात पर नजर बनाए हुए है। मैं राज्य सरकारों से लगातार संपर्क में हूं।

-गिर सोमनाथ में सोमनाथ मंदिर के पास धूल भरी आंधी।

महाराष्ट्र सरकार: चक्रवाती तूफान वायु के चलते 12 और 13 जून को हाई टाइड की संभावना, कोंकण क्षेत्र के पालघर, ठाणे, मुंबई, रायगढ़, रत्नागिरी और सिंधदुर्ग के सभी समुद्री तट अगले दो दिन के लिए बंद किए जा सकते हैं।
इस तूफान का असर महाराष्ट्र में भी दिखना शुरू हो गया है। मुंबई में तेज हवाएं चल रही हैं। जिसके चलते कई पेड़ भी गिर गए हैं। साथ ही कुछ अन्य तटीय इलाकों में भी सुबह से तेज हवाएं चल रही हैं। तूफान को लेकर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की है।
राज्य सरकार ने तटीय और दक्षिण गुजरात में 'हाई अलर्ट' जारी किया है। तटीय इलाकों में एनडीआरएफ जवानों को तैनात किया है। सेना को भी तैयार रहने को कहा गया है। हालात से निपटने के लिए सेना भी तैयारियों में जुटी हैं। करीब 3 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है।
वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी गुजरात के पार्टी कार्यकर्ताओं से मदद करने के लिए अपील की है। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, "चक्रवात 'वायु' गुजरात तट के करीब पहुंचने वाला है। मैं गुजरात के सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं कि वे इसके रास्ते में आने वाले सभी क्षेत्रों में मदद के लिए तैयार रहें। मै xचक्रवात से प्रभावित होने वाले क्षेत्रों के सभी लोगों की सुरक्षा और कल्याण के लिए प्रार्थना करता हूं।"
तूफान सौराष्ट्र और कच्छ की ओर लगातार बढ़ रहा है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने स्थिति के गंभीर होने की बात कही है। आईएमडी ने बताया, "वायु चक्रवात बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है। इससे गुरुवार सुबह हवाएं 145 से 170 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलेंगी।"

रेल और विमान सेवा प्रभावित

तूफान के चलते विमान और रेल सेवा भी प्रभावित हो रही हैं। गुरुवार के लिए अहमदाबाद के सरदार वल्लभभाई पटेल अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से पोरबंदर, दियु, कंडला, मुंद्रा और भावनवगर जाने वाली उड़ानों को रद्द कर दिया गया है।
आज शाम छह बजे से गुरुवार सुबह तक वेरावल, ओखा, पोरबंदर, भावनगर, भुज और गांधीधाम स्टेशन जाने वाली पैसेंजर और मेल/एक्सप्रेस रेलों को रद्द कर दिया गया है और कुछ की यात्रा गंतव्य स्थान से पहले ही रोक दी गई है। वहीं हर स्टेशन पर लोगों को सुरक्षित बचाने के लिए एक विशेष रेल की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा राजकोट और अहमदाबाद के लिए भी दो विशेष रेल चलाई जा रही हैं।

चक्रवाती तूफान वायु

भारतीय वायु सेना अधिकारी ने बताया कि एनडीआरएफ की टीम वायु सेना की मदद से गुजरात पहुंच रही हैं। ताकि तटीय इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा सके। मुंबई के मौसम विभाग का कहना है कि बेहद खतरनाक वायु चक्रवात अब मुंबई के दक्षिण-दक्षिणपश्चिम में 280 किमी पर है। आज उत्तर महाराष्ट्र के तट पर तेज हवाएं चलेंगी।
मौसम विभाग के मुताबिक महाराष्ट्र से उत्तर की ओर बढ़ रहा 'वायु' गुरुवार सुबह तक पोरबंदर और कच्छ पहुंच सकता है। तूफान की गति 115 से 130 किमी प्रति घंटा तक हो सकती है। इसके मद्देनजर सौराष्ट्र और कच्छ के तटीय इलाकों में 13-14 जून को भारी बारिश हो सकती है।
भूस्खलन के खतरे के बाद वलसाड जिले के 20 गांवों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। तटों के पास स्थित गांवों के 39 स्कूल भी बंद रहेंगे। दमकल और बचाव दल को अलर्ट पर रखा गया है। कंडला बंदरगाह को भी अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया है।

गृहमंत्री अमित शाह ने ली बैठक

'वायु' के मद्देनजर गृहमंत्री अमित शाह ने तैयारियों का जायजा लिया। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को लोगों की सुरक्षा के लिए सभी संभावित कदम उठाने के निर्देश दिए। साथ ही स्वास्थ्य, पेयजल, बिजली और संचार जैसी जरूरी सेवाओं की मरम्मत और नुकसान की स्थिति में इनकी फौरन पुनर्बहाली सुनिश्चित करने को कहा।
चक्रवाती तूफान वायु


10 जिलों में स्कूल और कॉलेज की छुट्टी

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने 'वायु' चक्रवात से संभावित रूप से प्रभावित होने वाले 10 जिलों में 13 और 14 जून को स्कूल और कॉलेजों में 2 दिन की छुट्टी करने का आदेश दिया।

सीएम ने पर्यटकों से की वापस जाने की अपील

वायु चक्रवाती तूफाने के खतरे को देखते हुए गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने गुजरात द्वारका, सोमनाथ, सासन, कच्छ आए हुए पर्यटकों को 12 जून की दोपहर के बाद सुरक्षित स्थानों पर लौटने की अपील की है। सीएम ने लोगों से कहा कि किसी तरह का नुकसान न हो इसलिए पर्यटक समय रहते वापस भी लौट सकते हैं

राज्य सरकार के हाई अलर्ट के बाद NDRF

मौसम विभाग ने इसके मद्देनजर सौराष्ट्र और कच्छ के तटीय इलाकों में 13 और 14 जून को भारी बारिश होने और 110 किमी प्रति घंटे की गति से तूफानी हवाएं चलने की चेतावनी जारी की है।
इसे देखते हुए गुजरात सरकार ने भी 'हाई अलर्ट' जारी करते हुए सौराष्ट्र और कच्छ इलाकों में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के जवानों को तैनात किया है। एनडीआरएफ की एक टीम को भारतीय वायु सेना के C-17 विमान से जामनगर में उतारा गया है। यह टीम किसी भी खतरे की दशा में सहायता और आपदा राहत मिशन चलाएगी।
चक्रवाती तूफान वायु

मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह

राज्य सरकार ने तटीय क्षेत्रों में मछुआरों को अगले कुछ दिनों तक समुद्र में न जाने की सलाह दी है। साथ ही बंदरगाहों को खतरे के संकेत और सूचना जारी करने को कहा है। 13 जून को 1 से 1.5 मीटर तक ज्वार उठने की संभावना है जिससे कच्छ, देवभूमि द्वारका, पोरबंदर, जूनागढ़, दीव, गिर सोमनाथ, अमरेली और भावनगर के निचले जिलों में पानी भर सकता है।

केरल में मूसलाधार बारिश

केरल में मानसून के दस्तक देने के बाद कई इलाकों में मूसलाधार बारिश हुई है। खासतौर पर तटीय इलाकों में मकानों और पेड़ों को भारी नुकसान पहुंचा है। पिछले साल अगस्त में हुई अत्यधिक मानसूनी बारिश के बाद राज्य को सदी की सबसे बड़ी बाढ़ का सामना करना पड़ा था, जिसमें करीब 400 लोगों की मौत हो गई थी।
मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार को एर्नाकुलम के पिरावम में सर्वाधिक 14 सेमी. बारिश दर्ज की गई। विभाग ने कुछ इलाकों में अगले पांच दिनों तक भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। उत्तर मलप्पुरम और कोझिकोड में 12 जून को भारी वर्षा के आसार हैं। इस दौरान मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है।